Breaking News

आगरा सेअपह्रत डॉक्टर उमाकांत गुप्ता को धौलपुर और यूपी क्राइम ब्रांच के सब कुशल कराया बरामद

आगरा सेअपह्रत डॉक्टर उमाकांत गुप्ता को धौलपुर और यूपी क्राइम ब्रांच के सब कुशल कराया बरामद।

आगरा से अपह्रत वरिष्ठ सर्जन डॉक्टर उमाकांत गुप्ता को धौलपुर आगरा क्राइम ब्रांच ने धौलपुर की चंबल के बीहड़ों से सकुशल बरामद कर लिया है। डॉक्टर उमाकांत गुप्ता आगरा के थाना एत्माद्दौला के हाईवे किनारे विद्या देवी मेमोरियल हॉस्पिटल के नाम से हॉस्पिटल संचालित करते हैं।
विगत दिनों डॉक्टर गुप्ता शाम को मरीजों को देखने के लिए अपने आवास ट्रांस यमुना कॉलोनी से हॉस्पिटल के लिए निकले थे लेकिन रात 11:00 बजे तक जब डॉक्टर गुप्ता अपने घर नहीं पहुंचे तो घर वालों ने उनकी जानकारी करना शुरू की।
तो डॉक्टर गुप्ता का मोबाइल स्विच ऑफ आने लगा और उनकी किसी हॉस्पिटल में लोकेशन नहीं मिली जिससे परिजनों की चिंता बढ़ गई और रमाकांत की पत्नी विद्या देवी ने पूरे मामले से थाना एत्माद्दौला पुलिस को अवगत कराया। क्षेत्र के वरिष्ठ सर्जन के लापता होने की सूचना पर पुलिस महकमे में हड़कंप मच गया आनन-फानन में पुलिस के उच्चाधिकारी डॉ गुप्ता के आवास पर पहुंच गए और उनकी बारे में जानकारी करने में जुट गए।

काफी खोजबीन के बाद में डॉ गुप्ता के मोबाइल की अंतिम लोकेशन थाना सैया क्षेत्र में मिली तो पुलिस के और होश उड़ गए। आनन-फानन में एसपी सिटी आगरा के नेतृत्व में कई टीमों का गठन किया गया और डॉक्टर गुप्ता के लापता होने के कारणों की जानकारी करने लगी।
एसपी सिटी ने आगरा क्राइम ब्रांच और धौलपुर पुलिस से भी संपर्क साधा, आगरा क्राइम ब्रांच और धौलपुर क्राइम ब्रांच के द्वारा उमाकांत गुप्ता की तलाश शुरू की गई तो रमाकांत की गाड़ी धौलपुर के चंबल के बीहड़ों से बरामद की गई। पुलिस का दावा यह भी है कि उमाकांत गुप्ता की गाड़ी को ले जाते समय पुलिस ने एक आरोपी को भी धर दबोचा था उसी की निशानदेही पर डॉ गुप्ता को चंबल के बीहड़ों से आगरा पुलिस ने सकुशल बरामद कर लिया है।

लेकिन बड़ा सवाल यह है कि सीसीटीवी कैमरा से लैस आगरा पुलिस को डॉक्टर के अपहरण की कानो कान भनक नहीं लगी बदमाश डॉक्टर का अपहरण कर धौलपुर की चंबल के बीहड़ों तक पहुंच गए और पुलिस सोती रही।

मुठभेड़ में बदमाश के पैर में गोली मारकर गिरफ्तार करने वाली आगरा पुलिस की कार्यप्रणाली पर उमाकांत गुप्ता कि अपन नहीं प्रश्नचिन्ह लगा दिया है। क्या आगरा के बेस्ट सर्जन के अपहरण के बाद में अपहरण करता डॉक्टर को चंबल के बीहड़ अब तक पहुंचने और 36 घंटे की समय सीमा के अंदर ही आगरा पुलिस के द्वारा डॉक्टर उमाकांत गुप्ता को मुक्त कराने से भले ही पुलिस अपनी पीठ थपथपा रही हो लेकिन पुलिस की कार्यप्रणाली पर बड़ा सवाल खड़ा करता है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *